Koi Betaab, Koi Mast

कोई बेताब, कोई मस्त, कोई चुप, कोई हैरान,
तेरी महफ़िल में एक तमाशा है जिधर देखो।

Koi Betaab, Koi Mast, Koi Chup, Koi Hairaan,
Teri Mahafil Mein Ek Tamaasha Hai Jidhar Dekho.

Andar Lagi Thi Aag

अन्दर लगी थी आग, मगर बेखबर थे लोग,
जलते हुए मकान के बाहर धुआँ न था।

Andar Lagi Thi Aag, Magar Bekhabar The Log,
Jalate Hue Makaan Ke Baahar Dhuaan Na Tha.

Duniya Kharid Legi Har

दुनिया खरीद लेगी हर मोड़ पर तुझे.
तूने जमीर बेचकर अच्छा नहीं किया।

Duniya Kharid Legi Har Mod Par Tujhe.
Toone Jamir Bechakar Achchha Nahin Kiya.

Zaar-zaar Royi Aankhen

ज़ार-ज़ार रोई आँखें ठहर गई दिल की धड़कन,
मेरे अपनों में मेरी औकात का मंज़र देखकर।

Zaar-zaar Royi Aankhen Thahar Gai Dil Ki Dhadakan,
Mere Apanon Mein Meri Aukaat Ka Manzar Dekhakar.

Baat Vo Kahiye Ki Jis

बात वो कहिए कि जिस बात के सौ पहलू हों,
कोई पहलू तो रहे बात बदलने के लिए।

Baat Vo Kahiye Ki Jis Baat Ke Sau Pahaloo Hon,
Koi Pahaloo To Rahe Baat Badalane Ke Liye.

Raat Mein Haivaan Din Mein

रात में हैवान दिन में इंसान बने बैठे हैं,
कुछ ऐसे भी भगवान बने बैठे हैं।

Raat Mein Haivaan Din Mein Insaan Bane Baithe Hain,
Kuchh Aise Bhi Bhagavaan Bane Baithe Hain.

Dil Par Zakhm Kuchh Aise Mile

Dil Par Zakhm Kuchh Aise Mile

दिल पर ज़ख्म कुछ ऐसे मिले,
फूलों पर भी सोया न गया,
दिल तो जलकर राख हो गया,
और आँखों से रोया भी न गया।

Dil Par Zakhm Kuchh Aise Mile,
Phoolon Par Bhi Soya Na Gaya,
Dil To Jalakar Raakh Ho Gaya,
Aur Aankhon Se Roya Bhi Na Gaya.

Mahafil Bhi Roegi

Mahafil Bhi Roegi

महफ़िल भी रोएगी हर दिल भी रोयेगा,
डुबा कर मेरी कश्ती साहिल भी रोयेगा,
इतना प्यार बिखेर देंगे दुनिया में हम,
कत्ल करके हमारा कातिल भी रोयेगा।

Mahafil Bhi Roegi Har Dil Bhi Royega,
Duba Kar Meri Kashti Saahil Bhi Royega,
Itana Pyaar Bikher Denge Duniya Mein Ham,
Katl Karake Hamaara Kaatil Bhi Royega.

Kismat Mein Likha Tha

Kismat Mein Likha Tha

किस्मत में लिखा था आशना दर्द से होना,
तू ना मिलता तो किसी और से बिछड़े होते।

Kismat Mein Likha Tha Aashana Dard Se Hona,
Too Na Milata To Kisi Aur Se Bichhade Hote.

Wo Khoon Banake Meri Ragon

Wo Khoon Banake Meri Ragon

वो खून बनके मेरी रगों में मचलता है,
करूँ जो आह तो लब से धुँआ निकलता है,
मोहब्बत का रिश्ता भी अजीब है यारों,
ये ऐसा घर है जो बरसात में भी जलता है।

Wo Khoon Banake Meri Ragon Mein Machalata Hai,
Karoon Jo Aah To Lab Se Dhuna Nikalata Hai,
Mohabbat Ka Rishta Bhi Ajib Hai Yaaron,
Ye Aisa Ghar Hai Jo Barasaat Mein Bhi Jalata Hai.