Pani Se Pyaas Na Bujhi

Pani Se Pyaas Na Bujhi

पानी से प्यास न बुझी,
तो मैखाने की तरफ चल निकला,
सोचा शिकायत करूँ तेरी खुदा से,
पर खुदा भी तेरा आशिक निकला

Pani Se Pyaas Na Bujhi,
Toh Maikhane Ki Taraf Chal Nikla,
Socha Shikayat Karun Teri खुदाh Se,
Par Khudha Bhi Tera Ashiq Nikla.

Also Read: Sad Shayari In Hindi

Log Kahte Hain Jinhe

Log Kahte Hain Jinhe

लोग कहते हैं जिन्हें नील कंवल वो तो क़तील,
शब को इन झील सी आँखों में खिला करते है।

Log Kahte Hain Jinhe Neel Kanwal Wo To Katil,
Shab Ko In Jheel Si Aankho Me Khila Karte Hain.

Also Read: Hindi Shayari

Uski Kudarat Dekhta Hoon

Uski Kudarat Dekhta Hoon

उसकी कुदरत देखता हूँ तेरी आँखें देखकर,
दो पियालों में भरी है कैसे लाखों मन शराब।

Uski Kudarat Dekhta Hoon Teri Aankhe Dekhkar,
Do Piyaalon Me Bhari Hai Kaise Laakhon Man Sharab.

Also Read: Hindi Shayari

Unki Baaten Ka Daur

Unki Baaten Ka Daur

उनकी बातों का दौर
उनकी आवाज का दीवाना
वो दिन भी क्या दिन थे
जब वो पास थे मेरे
और अजनबी था जमाना।

Unki Baaten Ka Daur
Unki Aawaj Ka Diwana
Wo Din Bhi Kya Din The
Jab Wo Paas The Mere
Aur Ajnabi Tha Jamana

Also Read: Hindi Shayari

Maine Samajha Tha Ki Tu Hai

Maine Samajha Tha Ki Tu Hai

मैने समझा था कि तू है तो दरख़्शां है हयात,
तेरा ग़म है तो ग़मे-दहर का झगड़ा क्या है,
तेरी सूरत से है आलम में बहारों को सबात,
तेरी आँखों के सिवा दुनिया मे रक्खा क्या है।

Maine Samajha Tha Ki Tu Hai To Darkshan Hai Hayaat,
Tera Gham Hai To Ghame-e-dahar Ka Jhagda Kya Hai,
Teri Surat Se Hai Aalam Me Bahaaron Ko Sabaat,
Teri Aankhon Ke Siva Duniya Me Rakhha Kya Hai.

Also Read: Hindi Shayari

Chup Naa Hogi Hawa Bhi

Chup Naa Hogi Hawa Bhi

चुप ना होगी हवा भी, कुछ कहेगी घटा भी,
और मुमकिन है तेरा, जिक्र कर दे खुद़ा भी।
फिर तो पत्थर ही शायद ज़ब्त से काम लेंगे,
हुस्न की बात चली तो, सब तेरा नाम लेंगे।

Chup Naa Hogi Hawa Bhi, Kuch Kahegi Ghata Bhi,
Aur Mumkin Hai Tera, Jikr Kar De Khuda Bhi,
Fir To Patthar Hi Shayad Jabt Se Kaam Lengey,
Husn Ki Baat Chali To, Sab Tera Naam Lengey.

Also Read: Hindi Shayari

Ishwa Bhi Hai Shokhi Bhi

Ishwa Bhi Hai Shokhi Bhi

इश्वा भी है शोख़ी भी तबस्सुम भी हया भी,
ज़ालिम में और इक बात है इस सब के सिवा भी।

Ishwa Bhi Hai Shokhi Bhi Tabassum Bhi Haya Bhi,
Jaalim Me Aur Ik Baat Hai Is Sab Ke Siva Bhi

Also Read: Hindi Shayari

Aaj Iss Ek Najar Par Mujhe

Aaj Iss Ek Najar Par Mujhe

Aaj Iss Ek Najar Par Mujhe Mar Jaane Do,
UssNe Logon Badi Mushkil Se Idhar Dekha Hai,
Kya Galat Hai Jo Main Deewana Hua Sach Kehna,
Mere Mahboob Ko TumNe Bhi Agar Dekha Hai.

आज इस एक नजर पर मुझे मर जाने दो,
उस ने लोगों बड़ी मुश्किल से इधर देखा है,
क्या गलत है जो मैं दीवाना हुआ, सच कहना,
मेरे महबूब को तुम ने भी अगर देखा है।

Also Read: Dosti Shayari Images