Top Rahat Indori Shayari Collection In Hindi

Rahat Indori Shayari

Rahat Indori Shayari

 

Aankh Men Paani Rakho Honton Pe Chingari Rakho
Zinda Rahna Hai To Tarkiben Bahut Saari Rakho

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो

~ Rahat Indori



Ab To Har Haath Ka Patthar Hamen Pahchanta Hai
Umr Guzri Hai Tire Shahr Men Aate Jaate

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है
उम्र गुज़री है तिरे शहर में आते जाते

~ Rahat Indori



Bahut Ġhurur Hai Dariya Ko Apne Hone Par
Jo Meri Pyaas Se Uljhe To Dhajjiyan Uḍ Jaayen

बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ

~ Rahat Indori



Bimar Ko Maraz Ki Dava Deni Chahiye
Main Piina Chahta Huun Pila Deni Chahiye

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए

~ Rahat Indori



Botalen Khol Kar To Pi Barson
Aaj Dil Khol Kar Bhi Pi Jaaye

बोतलें खोल कर तो पी बरसों
आज दिल खोल कर भी पी जाए

~ Rahat Indori



Collage Ke Sab Bachche Chup Hain Kaġhaz Ki Ik Naav Liye
Charon Taraf Dariya Ki Surat Phaili Hui Bekari Hai

कॉलेज के सब बच्चे चुप हैं काग़ज़ की इक नाव लिए
चारों तरफ़ दरिया की सूरत फैली हुई बेकारी है

~ Rahat Indori



Dosti Jab Kisi Se Ki Jaaye
Dushmanon Ki Bhi Raaye Li Jaaye

दोस्ती जब किसी से की जाए
दुश्मनों की भी राय ली जाए

~ Rahat Indori



Ek Hi Naddi Ke Hain Ye Do Kinare Dosto
Dostana Zindagi Se Maut Se Yaari Rakho

एक ही नद्दी के हैं ये दो किनारे दोस्तो
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो

~ Rahat Indori



Ghar Ke Bahar Dhundhta Rahta Huun Duniya
Ghar Ke Andar Duniya-daari Rahti Hai

घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है

~ Rahat Indori



Khayal Tha Ki Ye Pathrav Rok Den Chal Kar
Jo Hosh Aaya To Dekha Lahu Lahu Ham The

ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे

~ Rahat Indori



Main Aa Kar Dushmanon Men Bas Gaya Huun
Yahan Hamdard Hain Do-chaar Mere

मैं आ कर दुश्मनों में बस गया हूँ
यहाँ हमदर्द हैं दो-चार मेरे

~ Rahat Indori



Main Akhir Kaun Sa Mausam Tumhare Naam Kar Deta
Yahan Har Ek Mausam Ko Guzar Jaane Ki Jaldi Thi

मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता
यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी

~ Rahat Indori



Main Ne Apni Khushk Ankhon Se Lahu Chhalka Diya
Ik Samundar Kah Raha Tha Mujh Ko Paani Chahiye

मैं ने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया
इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए

~ Rahat Indori



Main Parbaton Se Laḍta Raha Aur Chand Log
Giili Zamin Khod Ke Farhad Ho Gaye

मैं पर्बतों से लड़ता रहा और चंद लोग
गीली ज़मीन खोद के फ़रहाद हो गए

~ Rahat Indori



Maza Chakha Ke Hi Maana Huun Main Bhi Duniya Ko
Samajh Rahi Thi Ki Aise Hi Chhoḍ Dunga Use

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे

~ Rahat Indori



Miri Khvahish Hai Ki Angan Men Na Divar Uthe
Mire Bhaa.i Mire Hisse Ki Zamin Tu Rakh Le

मिरी ख़्वाहिश है कि आँगन में न दीवार उठे
मिरे भाई मिरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले

~ Rahat Indori



Na Ham-safar Na Kisi Ham-nashin Se Niklega
Hamare Paanv Ka Kanta Hamin Se Niklega

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा

~ Rahat Indori



Naye Kirdar Aate Ja Rahe Hain
Magar Natak Purana Chal Raha Hai

नए किरदार आते जा रहे हैं
मगर नाटक पुराना चल रहा है

~ Rahat Indori



Roz Patthar Ki Himayat Men Ġhazal Likhte Hain
Roz Shishon Se Koi Kaam Nikal Paḍta Hai

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है

~ Rahat Indori



Roz Taron Ko Numa.ish Men Khalal Paḍta Hai
Chand Pagal Hai Andhere Men Nikal Paḍta Hai

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है

~ Rahat Indori



Shahr Kya Dekhen Ki Har Manzar Men Jaale Paḍ Gaye
Aisi Garmi Hai Ki Piile Phuul Kaale Paḍ Gaye

शहर क्या देखें कि हर मंज़र में जाले पड़ गए
ऐसी गर्मी है कि पीले फूल काले पड़ गए

~ Rahat Indori



Us Ki Yaad Aa.i Hai Sanso Zara Ahista Chalo
Dhaḍkanon Se Bhi Ibadat Men Khalal Paḍta Hai

उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

~ Rahat Indori



Vo Chahta Tha Ki Kaasa Kharid Le Mera
Main Us Ke Taaj Ki Qimat Laga Ke Laut Aaya

वो चाहता था कि कासा ख़रीद ले मेरा
मैं उस के ताज की क़ीमत लगा के लौट आया

~ Rahat Indori



Ye Havayen Uḍ Na Jaayen Le Ke Kaġhaz Ka Badan
Dosto Mujh Par Koi Patthar Zara Bhari Rakho

ये हवाएँ उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन
दोस्तो मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो

~ Rahat Indori



Ye Zaruri Hai Ki Ankhon Ka Bharam Qaayem Rahe
Niind Rakkho Ya Na Rakkho Khvab Meyari Rakho

ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे
नींद रक्खो या न रक्खो ख़्वाब मेयारी रखो

~ Rahat Indori



Ham Se Pahle Bhi Musafir Ka.i Guzre Honge
Kam Se Kam Raah Ke Patthar To Hatate Jaate

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

~ Rahat Indori



Shakhon Se Tuut Jaayen Vo Patte Nahin Hain Ham
Andhi Se Koi Kah De Ki Auqat Men Rahe

शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे

~ Rahat Indori



Suraj Sitare Chand Mire Saat Men Rahe
Jab Tak Tumhare Haat Mire Haat Men Rahe

सूरज सितारे चाँद मिरे सात में रहे
जब तक तुम्हारे हात मिरे हात में रहे.

~ Rahat Indori

Also Read: Ghalib Shayari

Mujhe Dubo Ke Bahut Sharmsar

Mujhe Dubo Ke Bahut Sharmsar Rahti Hai
Vo Ek Mauj Jo Dariya Ke Paar Rahti Hai

Hamare Taaq Bhi Be-zar Hain Ujalon Se
Diye Ki Lau Bhi Hava Par Savar Rahti Hai

Phir Us Ke Ba.ad Vahi Baasi Manzaron Ke Julus
Bahar Chand Hi Lamhe Bahar Rahti Hai

Isi Se Qarz Chuka.e Hain Main Ne Sadiyon Ke
Ye Zindagi Jo Hamesha Udhar Rahti Hai

Hamari Shahr Ke Danishvaron Se Yaari Hai
Isi Liye To Qaba Taar Taar Rahti Hai

Mujhe Kharidne Vaalo Qatar Men Aao
Vo Chiiz Huun Jo Pas-e-ishtihar Rahti Hai


मुझे डुबो के बहुत शर्मसार रहती है
वो एक मौज जो दरिया के पार रहती है

हमारे ताक़ भी बे-ज़ार हैं उजालों से
दिए की लौ भी हवा पर सवार रहती है

फिर उस के बा’द वही बासी मंज़रों के जुलूस
बहार चंद ही लम्हे बहार रहती है

इसी से क़र्ज़ चुकाए हैं मैं ने सदियों के
ये ज़िंदगी जो हमेशा उधार रहती है

हमारी शहर के दानिशवरों से यारी है
इसी लिए तो क़बा तार तार रहती है

मुझे ख़रीदने वालो क़तार में आओ
वो चीज़ हूँ जो पस-ए-इश्तिहार रहती है

Also Read: Hindi Shayari

Sirf Khanjar Hi Nahin Ankhon

Sirf Khanjar Hi Nahin Ankhon Men Paani Chahiye
Ai Khuda Dushman Bhi Mujh Ko Khandani Chahiye

Shahr Ki Saari Alif-laila.en Būḍhi Ho Chukin
Shahzade Ko Koi Taaza Kahani Chahiye

Main Ne Ai Sūraj Tujhe Puuja Nahin Samjha To Hai
Mere Hisse Men Bhi Thoḍi Dhuup Aani Chahiye

Meri Qimat Kaun De Sakta Hai Is Bazar Men
Tum Zulekha Ho Tumhen Qimat Lagani Chahiye

Zindagi Hai Ik Safar Aur Zindagi Ki Raah Men
Zindagi Bhi Aa.e To Thokar Lagani Chahiye

Main Ne Apni Khushk Ankhon Se Lahū Chhalka Diya
Ik Samundar Kah Raha Tha Mujh Ko Paani Chahiye


सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए
ऐ ख़ुदा दुश्मन भी मुझ को ख़ानदानी चाहिए

शहर की सारी अलिफ़-लैलाएँ बूढ़ी हो चुकीं
शाहज़ादे को कोई ताज़ा कहानी चाहिए

मैं ने ऐ सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए

मेरी क़ीमत कौन दे सकता है इस बाज़ार में
तुम ज़ुलेख़ा हो तुम्हें क़ीमत लगानी चाहिए

ज़िंदगी है इक सफ़र और ज़िंदगी की राह में
ज़िंदगी भी आए तो ठोकर लगानी चाहिए

मैं ने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया
इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए

Also Read: Sad Shayari

Masjidon Ke Sahn Tak Jaana

Masjidon Ke Sahn Tak Jaana Bahut Dushvar Tha
Dair Se Nikla To Mere Raste Men Daar Tha

Dekhte Hi Dekhte Shahron Ki Raunaq Ban Gaya
Kal Yahi Chehra Hamare A.inon Par Baar Tha

Apni Qismat Men Likhi Thi Dhuup Ki Narazgi
Saya-e-divar Tha Lekin Pas-e-divar Tha

Sab Ke Dukh Sukh Us Ke Chehre Par Likhe Paa.e Ga.e
Aadmi Kya Tha Hamare Shahr Ka Aḳhbar Tha

Ab Mohalle Bhar Ke Darvazon Pe Dastak Hai Nasib
Ik Zamana Tha Ki Jab Main Bhi Bahut Ḳhuddar Tha


मस्जिदों के सहन तक जाना बहुत दुश्वार था
दैर से निकला तो मेरे रास्ते में दार था

देखते ही देखते शहरों की रौनक़ बन गया
कल यही चेहरा हमारे आइनों पर बार था

अपनी क़िस्मत में लिखी थी धूप की नाराज़गी
साया-ए-दीवार था लेकिन पस-ए-दीवार था

सब के दुख सुख उस के चेहरे पर लिखे पाए गए
आदमी क्या था हमारे शहर का अख़बार था

अब मोहल्ले भर के दरवाज़ों पे दस्तक है नसीब
इक ज़माना था कि जब मैं भी बहुत ख़ुद्दार था

Also Read: Sad Shayari In Hindi

Aankh Men Paani Rakho

Aankh Men Paani Rakho Honton Pe Chingari Rakho
Zinda Rahna Hai To Tarkiben Bahut Saari Rakho

Raah Ke Patthar Se Baḍh Kar Kuchh Nahin Hain Manzilen
Raste Avaz Dete Hain Safar Jaari Rakho

Ek Hi Naddi Ke Hain Ye Do Kinare Dosto
Dostana Zindagi Se Maut Se Yaari Rakho

Aate Jaate Pal Ye Kahte Hain Hamare Kaan Men
Kuuch Ka Ailan Hone Ko Hai Tayyari Rakho

Ye Zarūri Hai Ki Ankhon Ka Bharam Qaa.em Rahe
Niind Rakho Ya Na Rakho Ḳhvab Meyari Rakho

Ye Hava.en Uḍ Na Jaa.en Le Ke Kaġhaz Ka Badan
Dosto Mujh Par Koi Patthar Zara Bhari Rakho

Le To Aa.e Sha.iri Bazar Men ‘rahat’ Miyan
Kya Zarūri Hai Ki Lahje Ko Bhi Bazari Rakho


आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो

राह के पत्थर से बढ़ कर कुछ नहीं हैं मंज़िलें
रास्ते आवाज़ देते हैं सफ़र जारी रखो

एक ही नद्दी के हैं ये दो किनारे दोस्तो
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो

आते जाते पल ये कहते हैं हमारे कान में
कूच का ऐलान होने को है तय्यारी रखो

ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे
नींद रखो या न रखो ख़्वाब मेयारी रखो

ये हवाएँ उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन
दोस्तो मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो

ले तो आए शाइरी बाज़ार में ‘राहत’ मियाँ
क्या ज़रूरी है कि लहजे को भी बाज़ारी रखो

Also Read: Hindi Shayari

Nadi Ne Dhuup Se Kya Kah

Nadi Ne Dhuup Se Kya Kah Diya Ravani Men
Ujale Paanv Patakne Lage Hain Paani Men

Ye Koi Aur Hi Kirdar Hai Tumhari Tarah
Tumhara Zikr Nahin Hai Miri Kahani Men

Ab Itni Saari Shabon Ka Hisab Kaun Rakhe
Baḍe Savab Kama.e Ga.e Javani Men

Chamakta Rahta Hai Sūraj-mukhi Men Koi Aur
Mahak Raha Hai Koi Aur Rat-rani Men

Ye Mauj Mauj Na.i Halchalen Si Kaisi Hain
Ye Kis Ne Paanv Utare Udaas Paani Men

Main Sochta Huun Koi Aur Karobar Karūn
Kitab Kaun Ḳharidega Is Girani Men


नदी ने धूप से क्या कह दिया रवानी में
उजाले पाँव पटकने लगे हैं पानी में

ये कोई और ही किरदार है तुम्हारी तरह
तुम्हारा ज़िक्र नहीं है मिरी कहानी में

अब इतनी सारी शबों का हिसाब कौन रखे
बड़े सवाब कमाए गए जवानी में

चमकता रहता है सूरज-मुखी में कोई और
महक रहा है कोई और रात-रानी में

ये मौज मौज नई हलचलें सी कैसी हैं
ये किस ने पाँव उतारे उदास पानी में

मैं सोचता हूँ कोई और कारोबार करूँ
किताब कौन ख़रीदेगा इस गिरानी में

Also Read: Sad Shayari Image

Main Laakh Kah Duun Ki Akash

Main Laakh Kah Duun Ki Akash Huun Zamin Huun Main
Magar Use To Khabar Hai Ki Kuchh Nahin Huun Main

Ajiib Log Hain Meri Talash Men Mujh Ko
Vahan Pe Dhund Rahe Hain Jahan Nahin Huun Main

Main A.inon Se To Mayus Laut Aaya Tha
Magar Kisi Ne Bataya Bahut Hasin Huun Main

Vo Zarre Zarre Men Maujud Hai Magar Main Bhi
Kahin Kahin Huun Kahan Huun Kahin Nahin Huun Main

Vo Ik Kitab Jo Mansub Tere Naam Se Hai
Usi Kitab Ke Andar Kahin Kahin Huun Main

Sitaro Aao Miri Raah Men Bikhar Jaao
Ye Mera Hukm Hai Halanki Kuchh Nahin Huun Main

Yahin Husain Bhi Guzre Yahin Yazid Bhi Tha
Hazar Rang Men Duubi Hui Zamin Huun Main

Ye Buḍhi Qabren Tumhen Kuchh Nahin Bata.engi
Mujhe Talash Karo Dosto Yahin Huun Main


मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को
वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं

मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी
कहीं कहीं हूँ कहाँ हूँ कहीं नहीं हूँ मैं

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ
ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं

यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था
हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूँ मैं

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी
मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूँ मैं

Also Read: Sad Love Shayari

Ghar Se Ye Soch Ke Nikla

Ghar Se Ye Soch Ke Nikla Huun Ki Mar Jaana Hai
Ab Koi Raah Dikha De Ki Kidhar Jaana Hai

Jism Se Saath Nibhane Ki Mat Ummid Rakho
Is Musafir Ko To Raste Men Thahar Jaana Hai

Maut Lamhe Ki Sada Zindagi Umron Ki Pukar
Main Yahi Soch Ke Zinda Huun Ki Mar Jaana Hai

Nashsha Aisa Tha Ki Mai-khane Ko Duniya Samjha
Hosh Aaya To Khayal Aaya Ki Ghar Jaana Hai

Mire Jazbe Ki Baḍi Qadr Hai Logon Men Magar
Mere Jazbe Ko Mire Saath Hi Mar Jaana Hai


घर से ये सोच के निकला हूँ कि मर जाना है
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो
इस मुसाफ़िर को तो रस्ते में ठहर जाना है

मौत लम्हे की सदा ज़िंदगी उम्रों की पुकार
मैं यही सोच के ज़िंदा हूँ कि मर जाना है

नश्शा ऐसा था कि मय-ख़ाने को दुनिया समझा
होश आया तो ख़याल आया कि घर जाना है

मिरे जज़्बे की बड़ी क़द्र है लोगों में मगर
मेरे जज़्बे को मिरे साथ ही मर जाना है

Also Read: Hindi Shayari

Kahin Akele Men Mil Kar

Kahin Akele Men Mil Kar Jhinjhoḍ Dūnga Use
Jahan Jahan Se Vo Tuuta Hai Joḍ Dūnga Use

Mujhe Vo Chhoḍ Gaya Ye Kamal Hai Us Ka
Irada Main Ne Kiya Tha Ki Chhoḍ Dūnga Use

Badan Chura Ke Vo Chalta Hai Mujh Se Shisha-badan
Use Ye Dar Hai Ki Main Toḍ Phoḍ Dūnga Use

Pasine Bantta Phirta Hai Har Taraf Sūraj
Kabhi Jo Haath Laga To Nichoḍ Dūnga Use

Maza Chakha Ke Hi Maana Huun Main Bhi Duniya Ko
Samajh Rahi Thi Ki Aise Hi Chhoḍ Dūnga Use


कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़ दूँगा उसे
जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूँगा उसे

मुझे वो छोड़ गया ये कमाल है उस का
इरादा मैं ने किया था कि छोड़ दूँगा उसे

बदन चुरा के वो चलता है मुझ से शीशा-बदन
उसे ये डर है कि मैं तोड़ फोड़ दूँगा उसे

पसीने बाँटता फिरता है हर तरफ़ सूरज
कभी जो हाथ लगा तो निचोड़ दूँगा उसे

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे

Also Read: Sad Shayari In Hindi With Image

Andar Ka Zahr Chuum

Andar Ka Zahr Chuum Liya Dhul Ke Aa Gaye
Kitne Sharif Log The Sab Khul Ke Aa Gaye

Sūraj Se Jang Jitne Nikle The Bevaqūf
Saare Sipahi Mom Ke The Ghul Ke Aa Gaye

Masjid Men Duur Duur Koi Dūsra Na Tha
Ham Aaj Apne Aap Se Mil-jul Ke Aa Gaye

Nindon Se Jang Hoti Rahegi Tamam Umr
Ankhon Men Band Khvab Agar Khul Ke Aa Gaye

Sūraj Ne Apni Shakl Bhi Dekhi Thi Pahli Baar
A.ine Ko Maze Bhi Taqabul Ke Aa Gaye

Anjane Saaye Phirne Lage Hain Idhar Udhar
Mausam Hamare Shahr Men Kabul Ke Aa Gaye


अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए
कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए
सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवक़ूफ़
सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए
मस्जिद में दूर दूर कोई दूसरा न था
हम आज अपने आप से मिल-जुल के आ गए
नींदों से जंग होती रहेगी तमाम उम्र
आँखों में बंद ख़्वाब अगर खुल के आ गए
सूरज ने अपनी शक्ल भी देखी थी पहली बार
आईने को मज़े भी तक़ाबुल के आ गए
अनजाने साए फिरने लगे हैं इधर उधर
मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए

Also Read: Sad Shayari Pic