Top Sher of Mirza Ghalib | Mirza Ghalib Shayari Collection

Best Collection of Mirza Ghalib Shayari, मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी

Mirza Ghalib Shayari 01

Aah Ko Chahiye Ik Umr Asar Hote Tak
Kaun Jiita Hai Tiri Zulf Ke Sar Hote Tak

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक


Mirza Ghalib Shayari 02

Ham Ko Maalum Hai Jannat Ki Haqiqat Lekin
Dil Ke Khush Rakhne Ko ‘ġhalib’ Ye Khayal Achchha Hai

हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन
दिल के ख़ुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है


Mirza Ghalib Shayari 03

Hazaron Khvahishen Aisi Ki Har Khvahish Pe Dam Nikle
Bahut Nikle Mire Arman Lekin Phir Bhi Kam Nikle

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले


Mirza Ghalib Shayari 04

Mohabbat Men Nahin Hai Farq Jiine Aur Marne Ka
Usi Ko Dekh Kar Jiite Hain Jis Kafir Pe Dam Nikle

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले


Mirza Ghalib Shayari 05

Na Tha Kuchh To Khuda Tha Kuchh Na Hota To Khuda Hota
Duboya Mujh Ko Hone Ne Na Hota Main To Kya Hota

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता


Mirza Ghalib Shayari 06

Ragon Men Dauḍte Phirne Ke Ham Nahin Qaa.il
Jab Aankh Hi Se Na Tapka To Phir Lahū Kya Hai

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है


Mirza Ghalib Shayari 07

Un Ke Dekhe Se Jo Aa Jaati Hai Munh Par Raunaq
Vo Samajhte Hain Ki Bimar Ka Haal Achchha Hai

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है


Mirza Ghalib Shayari 08

Bazicha-e-atfal Hai Duniya Mire Aage
Hota Hai Shab-o-roz Tamasha Mire Aage

बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मिरे आगे


Mirza Ghalib Shayari 09

Bas-ki Dushvar Hai Har Kaam Ka Asan Hona
Aadmi Ko Bhi Mayassar Nahin Insan Hona

बस-कि दुश्वार है हर काम का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसाँ होना


Mirza Ghalib Shayari 10

Dard Minnat-kash-e-dava Na Hua
Main Na Achchha Hua Bura Na Hua

दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ


Mirza Ghalib Shayari 11

Hain Aur Bhi Duniya Men Sukhan-var Bahut Achchhe
Kahte Hain Ki ‘ġhalib’ Ka Hai Andaz-e-bayan Aur

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और


Mirza Ghalib Shayari 12

Ishrat-e-qatra Hai Dariya Men Fana Ho Jaana
Dard Ka Had Se Guzarna Hai Dava Ho Jaana

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना


Mirza Ghalib Shayari 13

Kaaba Kis Munh Se Jaoge ‘ġhalib’
Sharm Tum Ko Magar Nahin Aati

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुम को मगर नहीं आती


Mirza Ghalib Shayari 14

Kahan Mai-khane Ka Darvaza ‘ġhalib’ Aur Kahan Vaa.iz
Par Itna Jante Hain Kal Vo Jaata Tha Ki Ham Nikle

कहाँ मय-ख़ाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था कि हम निकले


Mirza Ghalib Shayari 15

Koi Mere Dil Se Pūchhe Tire Tiir-e-niim-kash Ko
Ye Khalish Kahan Se Hoti Jo Jigar Ke Paar Hota

कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर-ए-नीम-कश को
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता


Mirza Ghalib Shayari 16

Qarz Ki Piite The Mai Lekin Samajhte The Ki Haan
Rang Lavegi Hamari Faaqa-masti Ek Din

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हाँ
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन


Mirza Ghalib Shayari 17

Ranj Se Khūgar Hua Insan To Mit Jaata Hai Ranj
Mushkilen Mujh Par Paḍin Itni Ki Asan Ho Ga.iin

रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं


Mirza Ghalib Shayari 18

Rekhte Ke Tumhin Ustad Nahin Ho ‘ġhalib’
Kahte Hain Agle Zamane Men Koi ‘mir’ Bhi Tha

रेख़्ते के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ‘ग़ालिब’
कहते हैं अगले ज़माने में कोई ‘मीर’ भी था


Mirza Ghalib Shayari 19

Ye Na Thi Hamari Qismat Ki Visal-e-yaar Hota
Agar Aur Jiite Rahte Yahi Intizar Hota

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता
अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता

Also Read: Sad Love Shayari With Images

Hazaron Khvahishen Aisi Ki Har Khvahish

Hazaron Khvahishen Aisi Ki Har Khvahish Pe Dam Nikle
Bahut Nikle Mire Arman Lekin Phir Bhi Kam Nikle

Dare Kyuun Mera Qatil Kya Rahega Us Ki Gardan Par
Vo Khuun Jo Chashm-e-tar Se Umr Bhar Yuun Dam-ba-dam Nikle

Nikalna Khuld Se Aadam Ka Sunte Aa.e Hain Lekin
Bahut Be-abrū Ho Kar Tire Kūche Se Ham Nikle

Bharam Khul Jaa.e Zalim Tere Qamat Ki Darazi Ka
Agar Is Turra-e-pur-pech-o-kham Ka Pech-o-kham Nikle

Magar Likhva.e Koi Us Ko Khat To Ham Se Likhva.e
Hui Sub.h Aur Ghar Se Kaan Par Rakh Kar Qalam Nikle

Hui Is Daur Men Mansūb Mujh Se Bada-ashami
Phir Aaya Vo Zamana Jo Jahan Men Jam-e-jam Nikle

Hui Jin Se Tavaqqo Khastagi Ki Daad Paane Ki
Vo Ham Se Bhi Ziyada Khasta-e-teġh-e-sitam Nikle

Mohabbat Men Nahin Hai Farq Jiine Aur Marne Ka
Usi Ko Dekh Kar Jiite Hain Jis Kafir Pe Dam Nikle

Kahan Mai-khane Ka Darvaza ‘ġhalib’ Aur Kahan Vaa.iz
Par Itna Jante Hain Kal Vo Jaata Tha Ki Ham Nikle


हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

डरे क्यूँ मेरा क़ातिल क्या रहेगा उस की गर्दन पर
वो ख़ूँ जो चश्म-ए-तर से उम्र भर यूँ दम-ब-दम निकले

निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन
बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले

भरम खुल जाए ज़ालिम तेरे क़ामत की दराज़ी का
अगर इस तुर्रा-ए-पुर-पेच-ओ-ख़म का पेच-ओ-ख़म निकले

मगर लिखवाए कोई उस को ख़त तो हम से लिखवाए
हुई सुब्ह और घर से कान पर रख कर क़लम निकले

हुई इस दौर में मंसूब मुझ से बादा-आशामी
फिर आया वो ज़माना जो जहाँ में जाम-ए-जम निकले

हुई जिन से तवक़्क़ो’ ख़स्तगी की दाद पाने की
वो हम से भी ज़ियादा ख़स्ता-ए-तेग़-ए-सितम निकले

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले

कहाँ मय-ख़ाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइ’ज़
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था कि हम निकले

Also Read: Hindi Shayari

Na Tha Kuchh To Khuda Tha

Na Tha Kuchh To Khuda Tha Kuchh Na Hota To Khuda Hota
Duboya Mujh Ko Hone Ne Na Hota Main To Kya Hota

Hua Jab Ġham Se Yuun Be-his To Ġham Kya Sar Ke Katne Ka
Na Hota Gar Juda Tan Se To Zaanū Par Dhara Hota

Huī Muddat Ki ‘ġhalib’ Mar Gaya Par Yaad Aata Hai
Vo Har Ik Baat Par Kahna Ki Yuun Hota To Kya Hota

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता

हुआ जब ग़म से यूँ बे-हिस तो ग़म क्या सर के कटने का
न होता गर जुदा तन से तो ज़ानू पर धरा होता

हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’ मर गया पर याद आता है
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता

Also Read: Sad Sms

Ye Na Thi Hamari Qismat

Ye Na Thi Hamari Qismat Ki Visal-e-yar Hota
Agar Aur Jiite Rahte Yahi Intizar Hota

Tire Va.ade Par Jiye Ham To Ye Jaan Jhuut Jaana
Ki Khushi Se Mar Na Jaate Agar E’tibar Hota

Tiri Nazuki Se Jaana Ki Bandha Tha Ahd Boda
Kabhi Tu Na Toḍ Sakta Agar Ustuvar Hota

Koi Mere Dil Se Puchhe Tire Tir-e-nim-kash Ko
Ye Khalish Kahan Se Hoti Jo Jigar Ke Paar Hota

Ye Kahan Ki Dosti Hai Ki Bane Hain Dost Naseh
Koi Charasaz Hota Koi Ġham-gusar Hota

Rag-e-sang Se Tapakta Vo Lahu Ki Phir Na Thamta
Jise Ġham Samajh Rahe Ho Ye Agar Sharar Hota

Ġham Agarche Jan-gusil Hai Pa Kahan Bachen Ki Dil Hai
Ġham-e-ishq Gar Na Hota Ġham-e-rozgar Hota

Kahun Kis Se Main Ki Kya Hai Shab-e-ġham Buri Bala Hai
Mujhe Kya Bura Tha Marna Agar Ek Baar Hota

Hue Mar Ke Ham Jo Rusva Hue Kyuun Na Ġharq-e-dariya
Na Kabhi Janaza Uthta Na Kahin Mazar Hota

Use Kaun Dekh Sakta Ki Yagana Hai Vo Yakta
Jo Dui Ki Bu Bhi Hoti To Kahin Do-char Hota

Ye Masa.il-e-tasavvuf Ye Tira Bayan ‘ġhalib’
Tujhe Ham Vali Samajhte Jo Na Bada-khvar Hota

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता
अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता

तिरे वा’दे पर जिए हम तो ये जान झूट जाना
कि ख़ुशी से मर न जाते अगर ए’तिबार होता

तिरी नाज़ुकी से जाना कि बँधा था अहद बोदा
कभी तू न तोड़ सकता अगर उस्तुवार होता

कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर-ए-नीम-कश को
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता

ये कहाँ की दोस्ती है कि बने हैं दोस्त नासेह
कोई चारासाज़ होता कोई ग़म-गुसार होता

रग-ए-संग से टपकता वो लहू कि फिर न थमता
जिसे ग़म समझ रहे हो ये अगर शरार होता

ग़म अगरचे जाँ-गुसिल है प कहाँ बचें कि दिल है
ग़म-ए-इश्क़ गर न होता ग़म-ए-रोज़गार होता

कहूँ किस से मैं कि क्या है शब-ए-ग़म बुरी बला है
मुझे क्या बुरा था मरना अगर एक बार होता

हुए मर के हम जो रुस्वा हुए क्यूँ न ग़र्क़-ए-दरिया
न कभी जनाज़ा उठता न कहीं मज़ार होता

उसे कौन देख सकता कि यगाना है वो यकता
जो दुई की बू भी होती तो कहीं दो-चार होता

ये मसाईल-ए-तसव्वुफ़ ये तिरा बयान ‘ग़ालिब’
तुझे हम वली समझते जो न बादा-ख़्वार होता

Also Read: Sad And Love Shayari

Rahiye Ab Aisi Jagah Chal

Rahiye Ab Aisi Jagah Chal Kar Jahañ Koi Na Ho
Ham-sukhan Koi Na Ho Aur Ham-zabañ Koi Na Ho

Be-dar-o-divar Sa Ik Ghar Banaya Chahiye
Koi Ham-saya Na Ho Aur Pasbañ Koi Na Ho

Paḍiye Gar Bimar To Koi Na Ho Timardar
Aur Agar Mar Ja.iye To Nauha-khvañ Koi Na Ho

रहिए अब ऐसी जगह चल कर जहाँ कोई न हो
हम-सुख़न कोई न हो और हम-ज़बाँ कोई न हो

बे-दर-ओ-दीवार सा इक घर बनाया चाहिए
कोई हम-साया न हो और पासबाँ कोई न हो

पड़िए गर बीमार तो कोई न हो तीमारदार
और अगर मर जाइए तो नौहा-ख़्वाँ कोई न हो

Also Read: Hindi Shayari

Ishq Mujh Ko Nahin Vahshat Hi Sahi

Ishq Mujh Ko Nahin Vahshat Hi Sahi
Meri Vahshat Tiri Shohrat Hi Sahi

Qat.a Kiije Na Ta.alluq Ham Se
Kuchh Nahin Hai To Adavat Hi Sahi

Mere Hone Men Hai Kya Rusva.i
Ai Vo Majlis Nahin Ḳhalvat Hi Sahi

Ham Bhi Dushman To Nahin Hain Apne
Ġhair Ko Tujh Se Mohabbat Hi Sahi

Apni Hasti Hi Se Ho Jo Kuchh Ho
Agahi Gar Nahin Ġhaflat Hi Sahi

Umr Har-chand Ki Hai Barq-e-ḳhiram
Dil Ke Ḳhuun Karne Ki Fursat Hi Sahi

Ham Koi Tark-e-vafa Karte Hain
Na Sahi Ishq Musibat Hi Sahi

Kuchh To De Ai Falak-e-na-insaf
Aah O Fariyad Ki Ruḳhsat Hi Sahi

Ham Bhi Taslim Ki Ḳhū Dalenge
Be-niyazi Tiri Aadat Hi Sahi

Yaar Se Chheḍ Chali Jaa.e ‘asad’
Gar Nahin Vasl To Hasrat Hi Sahi


इश्क़ मुझ को नहीं वहशत ही सही
मेरी वहशत तिरी शोहरत ही सही

क़त्अ कीजे न तअल्लुक़ हम से
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही

मेरे होने में है क्या रुस्वाई
ऐ वो मज्लिस नहीं ख़ल्वत ही सही

हम भी दुश्मन तो नहीं हैं अपने
ग़ैर को तुझ से मोहब्बत ही सही

अपनी हस्ती ही से हो जो कुछ हो
आगही गर नहीं ग़फ़लत ही सही

उम्र हर-चंद कि है बर्क़-ए-ख़िराम
दिल के ख़ूँ करने की फ़ुर्सत ही सही

हम कोई तर्क-ए-वफ़ा करते हैं
न सही इश्क़ मुसीबत ही सही

कुछ तो दे ऐ फ़लक-ए-ना-इंसाफ़
आह ओ फ़रियाद की रुख़्सत ही सही

हम भी तस्लीम की ख़ू डालेंगे
बे-नियाज़ी तिरी आदत ही सही

यार से छेड़ चली जाए ‘असद’
गर नहीं वस्ल तो हसरत ही सही

Also Read: Sad Shayari In Hindi

Nukta-chin Hai Ġham-e-dil

Nukta-chin Hai Ġham-e-dil Us Ko Suna.e Na Bane
Kya Bane Baat Jahan Baat Bata.e Na Bane

Main Bulata To Huun Us Ko Magar Ai Jazba-e-dil
Us Pe Ban Jaa.e Kuchh Aisi Ki Bin Aa.e Na Bane

Khel Samjha Hai Kahin Chhoḍ Na De Bhuul Na Jaa.e
Kaash Yuun Bhi Ho Ki Bin Mere Sata.e Na Bane

Ġhair Phirta Hai Liye Yuun Tire Ḳhat Ko Ki Agar
Koi Pūchhe Ki Ye Kya Hai To Chhupa.e Na Bane

Us Nazakat Ka Bura Ho Vo Bhale Hain To Kya
Haath Aaven To Unhen Haath Laga.e Na Bane

Kah Sake Kaun Ki Ye Jalvagari Kis Ki Hai
Parda Chhoḍa Hai Vo Us Ne Ki Utha.e Na Bane

Maut Ki Raah Na Dekhūn Ki Bin Aa.e Na Rahe
Tum Ko Chahūn Ki Na Aao To Bula.e Na Bane

Bojh Vo Sar Se Gira Hai Ki Utha.e Na Uthe
Kaam Vo Aan Paḍa Hai Ki Bana.e Na Bane

Ishq Par Zor Nahin Hai Ye Vo Atish ‘ġhalib’
Ki Laga.e Na Lage Aur Bujha.e Na Bane

नुक्ता-चीं है ग़म-ए-दिल उस को सुनाए न बने
क्या बने बात जहाँ बात बताए न बने

मैं बुलाता तो हूँ उस को मगर ऐ जज़्बा-ए-दिल
उस पे बन जाए कुछ ऐसी कि बिन आए न बने

खेल समझा है कहीं छोड़ न दे भूल न जाए
काश यूँ भी हो कि बिन मेरे सताए न बने

ग़ैर फिरता है लिए यूँ तिरे ख़त को कि अगर
कोई पूछे कि ये क्या है तो छुपाए न बने

उस नज़ाकत का बुरा हो वो भले हैं तो क्या
हाथ आवें तो उन्हें हाथ लगाए न बने

कह सके कौन कि ये जल्वागरी किस की है
पर्दा छोड़ा है वो उस ने कि उठाए न बने

मौत की राह न देखूँ कि बिन आए न रहे
तुम को चाहूँ कि न आओ तो बुलाए न बने

बोझ वो सर से गिरा है कि उठाए न उठे
काम वो आन पड़ा है कि बनाए न बने

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने

Also Read: Sad Shayari

Hai Bas-ki Har Ik Un Ke Ishare Men

Hai Bas-ki Har Ik Un Ke Ishare Men Nishan Aur
Karte Hain Mohabbat To Guzarta Hai Guman Aur

Ya-rab Vo Na Samjhe Hain Na Samjhenge Mirī Baat
De Aur Dil Un Ko Jo Na De Mujh Ko Zaban Aur

Abru Se Hai Kya Us Nigah-e-naz Ko Paivand
Hai Tiir Muqarrar Magar Is Kī Hai Kaman Aur

Tum Shahr Men Ho To Hamen Kya Ġham Jab Uthenge
Le A.enge Bazar Se Ja Kar Dil O Jaan Aur

Har Chand Subuk-dast Hue But-shikanī Men
Ham Hain To Abhī Raah Men Hai Sang-e-giran Aur

Hai Khun-e-jigar Josh Men Dil Khol Ke Rota
Hote Jo Ka.ī Dīda-e-khun-naba-fishan Aur

Marta Huun Is Avaz Pe Har Chand Sar Uḍ Jaa.e
Jallad Ko Lekin Vo Kahe Jaa.en Ki Haan Aur

Logon Ko Hai Khurshīd-e-jahan-tab Ka Dhoka
Har Roz Dikhata Huun Main Ik Daġh-e-nihan Aur

Leta Na Agar Dil Tumhen Deta Koī Dam Chain
Karta Jo Na Marta Koī Din Ah-o-fuġhan Aur

Paate Nahīn Jab Raah To Chaḍh Jaate Hain Naale
Ruktī Hai Mirī Tab.a To Hotī Hai Ravan Aur

Hain Aur Bhī Duniya Men Sukhan-var Bahut Achchhe
Kahte Hain Ki ‘ġhalib’ Ka Hai Andaz-e-bayan Aur


है बस-कि हर इक उन के इशारे में निशाँ और
करते हैं मोहब्बत तो गुज़रता है गुमाँ और

या-रब वो न समझे हैं न समझेंगे मिरी बात
दे और दिल उन को जो न दे मुझ को ज़बाँ और

अबरू से है क्या उस निगह-ए-नाज़ को पैवंद
है तीर मुक़र्रर मगर इस की है कमाँ और

तुम शहर में हो तो हमें क्या ग़म जब उठेंगे
ले आएँगे बाज़ार से जा कर दिल ओ जाँ और

हर चंद सुबुक-दस्त हुए बुत-शिकनी में
हम हैं तो अभी राह में है संग-ए-गिराँ और

है ख़ून-ए-जिगर जोश में दिल खोल के रोता
होते जो कई दीदा-ए-ख़ूँनाबा-फ़िशाँ और

मरता हूँ इस आवाज़ पे हर चंद सर उड़ जाए
जल्लाद को लेकिन वो कहे जाएँ कि हाँ और

लोगों को है ख़ुर्शीद-ए-जहाँ-ताब का धोका
हर रोज़ दिखाता हूँ मैं इक दाग़-ए-निहाँ और

लेता न अगर दिल तुम्हें देता कोई दम चैन
करता जो न मरता कोई दिन आह-ओ-फ़ुग़ाँ और

पाते नहीं जब राह तो चढ़ जाते हैं नाले
रुकती है मिरी तब्अ तो होती है रवाँ और

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और

Also Read: Hindi Shayari

Aah Ko Chahiye Ik Umr Asar Hote Tak

Aah Ko Chahiye Ik Umr Asar Hote Tak
Kaun Jiita Hai Tirī Zulf Ke Sar Hote Tak

Dam-e-har-mauj Men Hai Halqa-e-sad-kam-e-nahang
Dekhen Kya Guzre Hai Qatre Pe Guhar Hote Tak

Ashiqī Sabr-talab Aur Tamanna Betab
Dil Ka Kya Rang Karun Khun-e-jigar Hote Tak

Ham Ne Maana Ki Taġhaful Na Karoge Lekin
Khaak Ho Ja.enge Ham Tum Ko Khabar Hote Tak

Partav-e-khur Se Hai Shabnam Ko Fana Kī Ta.alīm
Main Bhī Huun Ek Inayat Kī Nazar Hote Tak

Yak Nazar Besh Nahīn Fursat-e-hastī Ġhafil
Garmī-e-bazm Hai Ik Raqs-e-sharar Hote Tak

Ġham-e-hastī Ka ‘asad’ Kis Se Ho Juz Marg Ilaaj
Sham.a Har Rang Men Jaltī Hai Sahar Hote Tak


आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

दाम-ए-हर-मौज में है हल्क़ा-ए-सद-काम-ए-नहंग
देखें क्या गुज़रे है क़तरे पे गुहर होते तक

आशिक़ी सब्र-तलब और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रंग करूँ ख़ून-ए-जिगर होते तक

हम ने माना कि तग़ाफ़ुल न करोगे लेकिन
ख़ाक हो जाएँगे हम तुम को ख़बर होते तक

परतव-ए-ख़ुर से है शबनम को फ़ना की ता’लीम
मैं भी हूँ एक इनायत की नज़र होते तक

यक नज़र बेश नहीं फ़ुर्सत-ए-हस्ती ग़ाफ़िल
गर्मी-ए-बज़्म है इक रक़्स-ए-शरर होते तक

ग़म-ए-हस्ती का ‘असद’ किस से हो जुज़ मर्ग इलाज
शम्अ हर रंग में जलती है सहर होते तक

Also Read: Hindi Shayari

Phir Mujhe Dida-e-Tar Yaad Aaya

Phir Mujhe Dida-e-tar Yaad Aaya
Dil Jigar Tishna-e-fariyad Aaya

Dam Liya Tha Na Qayamat Ne Hanūz
Phir Tira Vaqt-e-safar Yaad Aaya

Sadgi-ha-e-tamanna Yaani
Phir Vo Nairang-e-nazar Yaad Aaya

Uzr-e-vamandagi Ai Hasrat-e-dil
Naala Karta Tha Jigar Yaad Aaya

Zindagi Yuun Bhi Guzar Hi Jaati
Kyuun Tira Rahguzar Yaad Aaya

Kya Hi Rizvan Se Laḍa.i Hogi
Ghar Tira Ḳhuld Men Gar Yaad Aaya

Aah Vo Jur.at-e-fariyad Kahan
Dil Se Tang Aa Ke Jigar Yaad Aaya

Phir Tire Kūche Ko Jaata Hai Ḳhayal
Dil-e-gum-gashta Magar Yaad Aaya

Koi Virani Si Virani Hai
Dasht Ko Dekh Ke Ghar Yaad Aaya

Main Ne Majnūn Pe Laḍakpan Men ‘asad’
Sang Uthaya Tha Ki Sar Yaad Aaya


फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया
दिल जिगर तिश्ना-ए-फ़रियाद आया

दम लिया था न क़यामत ने हनूज़
फिर तिरा वक़्त-ए-सफ़र याद आया

सादगी-हा-ए-तमन्ना यानी
फिर वो नैरंग-ए-नज़र याद आया

उज़्र-ए-वामांदगी ऐ हसरत-ए-दिल
नाला करता था जिगर याद आया

ज़िंदगी यूँ भी गुज़र ही जाती
क्यूँ तिरा राहगुज़र याद आया

क्या ही रिज़वाँ से लड़ाई होगी
घर तिरा ख़ुल्द में गर याद आया

आह वो जुरअत-ए-फ़रियाद कहाँ
दिल से तंग आ के जिगर याद आया

फिर तिरे कूचे को जाता है ख़याल
दिल-ए-गुम-गश्ता मगर याद आया

कोई वीरानी सी वीरानी है
दश्त को देख के घर याद आया

मैं ने मजनूँ पे लड़कपन में ‘असद’
संग उठाया था कि सर याद आया

Also Read: Romantic Shayari