Mere Chehre Se Kafan

Mere Chehre Se Kafan

मेरे चेहरे से कफ़न हटा कर …
जरा दीदार तो कर लो ,
ऐ जान बंद हो गई है वो आंखे …
जिन्हे तुम रुलाया करते थे.

Mere Chehre Se Kafan Hata Kar…
Jara Didar To Kar Lo,
Ae Jaan Band Ho Gai Hai Wo Ankhe…
Jinhe Tum Rulaya Karte The.

Also Read: Dosti Shayari Hindi

Kitna Khusnuma Hoga

Kitna Khusnuma Hoga

कितना ख़ुशनुमा होगा ,
वो मेरी मौत का मंजर ,
जब मुझे ठुकराने वाले खुद मुझे पाने के लिए ,
आंसू बहायेंगे …!!

Kitna Khusnuma Hoga,
Wo Meri Maut Ka Manjar,
Jab Mujhe Thukrane Wale Khud Mujhe Pane Ke Liye,
Aansu Bahayange…!!

Also Read: Dosti Ki Shayari

Hum Jab Bhi Aap

Hum Jab Bhi Aap

हम जब भी आप की दुनिया से जाएंगे,
इतनी खुशियाँ और अपनापन दे जायेंगे,
की जब भी याद करोगे इस पागल को,
हस्ती आँखों से भी आंसूं निकल आएंगे.

Hum Jab Bhi Aap Ki Duniya Se Jaayenge,
Itni Khusiya Aur Apnapan De Jayenge,
Ki Jab Bhi Yaad Karoge Is Pagal Ko,
Hasti Aankhon Se Bhi Aansoon Nikal Aayenge.

Also Read: Friendship Shayari In Hindi

Maut Ki Wadaiyon Se

Maut Ki Wadaiyon Se

मौत की वादियों से,
मैं कभी खुद को बचा तो न पाउंगी,
पर जब तक चली साँसे,
कसम तेरी ये मोहब्बत निभाऊंगी.

Maut Ki Wadaiyon Se,
Main Kabhi Khud Ko Bacha To Na Paaungi,
Par Jab Tak Chali Saanse,
Kasam Teri Ye Mohabbat Nibhaungi.

Also Read: Ghalib Shayari

Mohabbat Mujhe Thi Usi

Mohabbat Mujhe Thi Usi

मोहब्बत मुझे थी उसी से सनम,
यादों में उसकी यह दिल तड़पता रहा,
मौत भी मेरी चाहत को रोक न सकी,
कब्र में भी यह दिल धड़कता रहा।

Mohabbat Mujhe Thi Usi Se Sanam,
Yaadon Mein Uski Yeh Dil Tadpta Raha,
Maut Bhi Meri Chahat Ko Rok Na Saki,
Kabr Mein Bhi Yeh Dil Dhadkta Raha.

Also Read: Hindi Shayari

Kimat Pani Ki Nahi

Kimat Pani Ki Nahi

किमत पानी की नही, प्यास की होती है,
कदर मौत की नही, सांस की होती है,
प्यार तो बहुत लोग करते है दुनिया मे,
पर किमत प्यार की नही, विश्वास की होती है।

Kimat Pani Ki Nahi Pyaas Ki Hoti Hai,
Kimat Maut Ki Nahi Sans Ki Hoti Hai,
Pyar To Bhut Log Karte Hai Duniya Main,
Par Kimat Pyar Ki Nahi Vishwash Ki Hoti Hai.

Also Read: Hindi Shayari

Jindagi To Humesha Se Hi

Jindagi To Humesha Se Hi

जिंदगी तो हमेशा से ही,
बेवफा और ज़ालिम होती है मेरे दोस्त,
बस एक मौत ही वफादार होती है,
जो हर किसी को मिलती है।

Jindagi To Humesha Se Hi,
Bewafa Aur Jalim Hoti Hai Mere Dost,
Bas Ek Maut Hi Wafadar Hoti Hai,
Jo Har Kisi Ko Milti Hai.

Also Read: Romantic Shayari

Ruh-e-Ishq Ka Anjaam

Ruh-e-Ishq Ka Anjaam

रूह ए इश्क़ का अंजाम तो देखो
अपनी मौत का पैगाम तो देखो,
खुदा खुद लेने आया है जमीन पर
ये टूटे दिल का इनाम तो देखो।

Ruh-e-Ishq Ka Anjaam To Dekho,
Apani Maut Ka Paighaam To Dekho,
Khuda Khud Lene Aaya Hai Jamin Par,
Ye Tute Dil Ka Inaam To Dekho.

Also Read: Hindi Shayari