Kisi Ghareeb Ki Madad Kar

Kisi Ghareeb Ki Madad Kar

किसी ग़रीब की मदद कर के यह मत सोचो के …
तुम उस की दुनिया संवार रहे हो ,
यह सोचो के वह गरीब …
आप की आख़िरत संवार रहा है.

Kisi Ghareeb Ki Madad Kar Ke Yeh Mat Socho Ke…
Tum Us Ki Duniya Sanwar Rahe Ho,
Yeh Socho Ke Woh Gareeb…
Aap Ki Akhirat Sanwar Raha Hai.

Also Read: Hindi Shayari

Gareebi Shayari – Wo Raam ki Khichadi

वो राम की खिचड़ी भी खाता है
रहीम की खीर भी खाता है
वो भूखा है जनाब उसे
कहाँ मजहब समझ आता है.

 

Wo Ram Ki Chichadi Bhi Khaata Hai,
Rahim Ki Kheer Bhi Khata Hai,
Wo Bhukha Hai Janaab Use
Kahan Majhab Samajh Aata Hai.

Also Read: Hindi Shayari

Gareebi Shayari – Gareebo Ki Aukat Naa

गरीबों की औकात ना पूछो तो अच्छा है,
इनकी कोई जात ना पूछो तो अच्छा है,
चेहरे कई बेनकाब हो जायेंगे,
ऐसी कोई बात ना पूछो तो अच्छा है।

खिलौना समझ कर खेलते जो रिश्तों से,
उनके निजी जज्बात ना पूछो तो अच्छा है,
बाढ़ के पानी में बह गए छप्पर जिनके,
कैसे गुजारी रात ना पूछो तो अच्छा है।

भूख ने निचोड़ कर रख दिया है जिन्हें,
उनके तो हालात ना पूछो तो अच्छा है,
मज़बूरी में जिनकी लाज लगी दांव पर,
क्या लाई सौगात ना पूछो तो अच्छा है।

गरीबों की औकात ना पूछो तो अच्छा है,
इनकी कोई जात ना पूछो तो अच्छा है।

Also Read: Friendship Shayari

Gareebi Shayari – Khilona Samajh Kar

खिलौना समझ कर खेलते जो रिश्तों से
उनके निजी जज्बात ना पूछो तो अच्छा है
बाढ़ के पानी में बह गए छप्पर जिनके
कैसे गुजारी रात ना पूछो तो अच्छा है

Khilauna Samajh Kar Khelate Jo Rishton Se
Unake Nijee Jajbaat Na Poochho To Achchha Hai
Baadh Ke Paanee Mein Bah Gae Chhappar Jinake
Kaise Gujaaree Raat Na Poochho To Achchha Hai

Also Read: Friendship Shayari Images

Gareebi Shayari – Bhukh Ne Nichod ke

भूख ने निचोड़ कर रख दिया है जिन्हें
उनके तो हालात ना पूछो तो अच्छा है
मज़बूरी में जिनकी लाज लगी दांव पर
क्या लाई सौगात ना पूछो तो अच्छा है

Bhookh Ne Nichod Kar Rakh Diya Hai Jinhen
Unake To Haalaat Na Poochho To Achchha Hai
Mazabooree Mein Jinakee Laaj Lagee Daanv Par
Kya Laee Saugaat Na Poochho To Achchha Hai

Also Read: Hindi Shayari

Kabhi Aansu Toh Kabhi Khushi Bechi

Kabhi Aansu Toh Kabhi Khushi Bechi,
Hum Gareebon Ne Bekashi Bechi,
Chand Saansein Khareedne Ke Liye
Roj Thodi Si Zindgi Bechi.

कभी आंसू कभी ख़ुशी बेची
हम गरीबों ने बेकसी बेची,
चंद सांसे खरीदने के लिए
रोज थोड़ी सी जिन्दगी बेची।

Also Read: Friendship Shayari