Top Allama Iqbal Shayari Collection In Hindi

Allama Iqbal Shayari | Muhammad Iqbal

Allama Iqbal Shayari

 

Achchha Hai Dil Ke Saath Rahe Pasban-e-aql
Lekin Kabhi Kabhi Ise Tanha Bhi Chhoḍ De

अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे

~ अल्लामा इक़बाल



Anokhi Vaz.a Hai Saare Zamane Se Nirale Hain
Ye Ashiq Kaun Si Basti Ke Ya-rab Rahne Vaale Hain

अनोखी वज़्अ’ है सारे ज़माने से निराले हैं
ये आशिक़ कौन सी बस्ती के या-रब रहने वाले हैं

~ अल्लामा इक़बाल



Apne Man Men Duub Kar Pa Ja Suraġh-e-zindagi
Tū Agar Mera Nahin Banta Na Ban Apna To Ban

अपने मन में डूब कर पा जा सुराग़-ए-ज़ि़ंदगी
तू अगर मेरा नहीं बनता न बन अपना तो बन

~ अल्लामा इक़बाल



Baaġh-e-bahisht Se Mujhe Hukm-e-safar Diya Tha Kyuun
Kaar-e-jahan Daraz Hai Ab Mira Intizar Kar

बाग़-ए-बहिश्त से मुझे हुक्म-ए-सफ़र दिया था क्यूँ
कार-ए-जहाँ दराज़ है अब मिरा इंतिज़ार कर

~ अल्लामा इक़बाल



Dil Se Jo Baat Nikalti Hai Asar Rakhti Hai
Par Nahin Taqat-e-parvaz Magar Rakhti Hai

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है
पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है

~ अल्लामा इक़बाल



Guzar Ja Aql Se Aage Ki Ye Nuur
Charaġh-e-raah Hai Manzil Nahin Hai

गुज़र जा अक़्ल से आगे कि ये नूर
चराग़-ए-राह है मंज़िल नहीं है

~ अल्लामा इक़बाल



Hazaron Saal Nargis Apni Be-nuuri Pe Roti Hai
Baḍi Mushkil Se Hota Hai Chaman Men Diida-var Paida

हज़ारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पे रोती है
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदा-वर पैदा

~ अल्लामा इक़बाल



Jis Khet Se Dahqan Ko Mayassar Nahin Rozi
Us Khet Ke Har Khosha-e-gandum Ko Jala Do

जिस खेत से दहक़ाँ को मयस्सर नहीं रोज़ी
उस खेत के हर ख़ोशा-ए-गंदुम को जला दो

~ अल्लामा इक़बाल



Khudi Ko Kar Buland Itna Ki Har Taqdir Se Pahle
Khuda Bande Se Khud Pūchhe Bata Teri Raza Kya Hai

ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले
ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

~ अल्लामा इक़बाल



Maana Ki Teri Diid Ke Qabil Nahin Huun Main
Tū Mera Shauq Dekh Mira Intizar Dekh

माना कि तेरी दीद के क़ाबिल नहीं हूँ मैं
तू मेरा शौक़ देख मिरा इंतिज़ार देख

~ अल्लामा इक़बाल



Main Jo Sar-ba-sajda Hua Kabhi To Zamin Se Aane Lagi Sada
Tira Dil To Hai Sanam-ashna Tujhe Kya Milega Namaz Men

मैं जो सर-ब-सज्दा हुआ कभी तो ज़मीं से आने लगी सदा
तिरा दिल तो है सनम-आश्ना तुझे क्या मिलेगा नमाज़ में

~ अल्लामा इक़बाल



Na Pūchho Mujh Se Lazzat Khanaman-barbad Rahne Ki
Nasheman Saikḍon Main Ne Bana Kar Phūnk Daale Hain

न पूछो मुझ से लज़्ज़त ख़ानमाँ-बर्बाद रहने की
नशेमन सैकड़ों मैं ने बना कर फूँक डाले हैं

~ अल्लामा इक़बाल



Nasha Pila Ke Girana To Sab Ko Aata Hai
Maza To Tab Hai Ki Girton Ko Thaam Le Saaqi

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी

~ अल्लामा इक़बाल



Sitaron Se Aage Jahan Aur Bhi Hain
Abhi Ishq Ke Imtihan Aur Bhi Hain

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं
अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं

~ अल्लामा इक़बाल



Tire Ishq Ki Intiha Chahta Huun
Miri Sadgi Dekh Kya Chahta Huun

तिरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ
मिरी सादगी देख क्या चाहता हूँ

~ अल्लामा इक़बाल



Tū Ne Ye Kya Ġhazab Kiya Mujh Ko Bhi Faash Kar Diya
Main Hi To Ek Raaz Tha Siina-e-ka.enat Men

तू ने ये क्या ग़ज़ब किया मुझ को भी फ़ाश कर दिया
मैं ही तो एक राज़ था सीना-ए-काएनात में

~ अल्लामा इक़बाल



Tū Shahin Hai Parvaz Hai Kaam Tera
Tire Samne Asman Aur Bhi Hain

तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा
तिरे सामने आसमाँ और भी हैं

~ अल्लामा इक़बाल



Uruuj-e-aadam-e-khaki Se Anjum Sahme Jaate Hain
Ki Ye Tuuta Hua Taara Mah-e-kamil Na Ban Jaa.e

उरूज-ए-आदम-ए-ख़ाकी से अंजुम सहमे जाते हैं
कि ये टूटा हुआ तारा मह-ए-कामिल न बन जाए

~ अल्लामा इक़बाल



Yaqin Mohkam Amal Paiham Mohabbat Fatah-e-aalam
Jihad-e-zindagani Men Hain Ye Mardon Ki Shamshiren

यक़ीं मोहकम अमल पैहम मोहब्बत फ़ातेह-ए-आलम
जिहाद-ए-ज़िंदगानी में हैं ये मर्दों की शमशीरें

~ अल्लामा इक़बाल

Also Read: Ghalib Shayari