Aina Shayari | Shayari About Aina | Aina Shayari Hindi

Aina Aina Tairta Koi Aks
Aur Har Khvab Men Dusra Khvab Hai

आईना आईना तैरता कोई अक्स
और हर ख़्वाब में दूसरा ख़्वाब है



Aina Dekh Apna Sa Munh Le Ke Rah Ga.e
Sahab Ko Dil Na Dene Pe Kitna Ġhurur Tha

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था



Aina Kabhi Qabil-e-didar Na Hove
Gar Khaak Ke Saath Us Ko Sarokar Na Hove

आईना कभी क़ाबिल-ए-दीदार न होवे
गर ख़ाक के साथ उस को सरोकार न होवे



Aina Kyuun Na Duun Ki Tamasha Kahen Jise
Aisa Kahan Se La.un Ki Tujh Sa Kahen Jise

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे



Ainon Ko Zang Laga
Ab Main Kaisa Lagta Huun

आईनों को ज़ंग लगा
अब मैं कैसा लगता हूँ



Aaina Dekh Kar Tasalli Hui
Ham Ko Is Ghar Men Janta Hai Koi

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई



Aaina Dekh Kar Vo Ye Samjhe
Mil Gaya Husn-e-be-misal Hamen

आइना देख कर वो ये समझे
मिल गया हुस्न-ए-बे-मिसाल हमें



Aaina Dekh Ke Farmate Hain
Kis Ġhazab Ki Hai Javani Meri

आइना देख के फ़रमाते हैं
किस ग़ज़ब की है जवानी मेरी



Aaina Dekh Ke Kahte Hain Sanvarne Vaale
Aaj Be-maut Marenge Mire Marne Vaale

आइना देख के कहते हैं सँवरने वाले
आज बे-मौत मरेंगे मिरे मरने वाले



Aaina Ye To Batata Hai Ki Main Kya Huun Magar
Aaina Is Pe Hai Khamosh Ki Kya Hai Mujh Men

आइना ये तो बताता है कि मैं क्या हूँ मगर
आइना इस पे है ख़ामोश कि क्या है मुझ में



Aaine Se Nazar Churate Hain
Jab Se Apna Javab Dekha Hai

आइने से नज़र चुराते हैं
जब से अपना जवाब देखा है



Aap Lillah Na Dekha Karen Aina Kabhi
Dil Ka Aa Jaana Baḍi Baat Nahin Hoti Hai

आप लिल्लाह न देखा करें आईना कभी
दिल का आ जाना बड़ी बात नहीं होती है



Chahe Sone Ke Frame Men Jaḍ Do
Aaina Jhuut Bolta Hi Nahin

चाहे सोने के फ़्रेम में जड़ दो
आइना झूट बोलता ही नहीं



Ek Ko Do Kar Dikha.e Aaina
Gar Bana.en Aahan-e-shamshir Se

एक को दो कर दिखाए आइना
गर बनाएँ आहन-ए-शमशीर से



Is Liye Kahte The Dekha Munh Lagane Ka Maza
Aina Ab Aap Ka Madd-e-muqabil Ho Gaya

इस लिए कहते थे देखा मुँह लगाने का मज़ा
आईना अब आप का मद्द-ए-मुक़ाबिल हो गया



Jo Reza Reza Nahin Dil Use Nahin Kahte
Kahen Na Aina Us Ko Jo Paara-paara Nahin

जो रेज़ा रेज़ा नहीं दिल उसे नहीं कहते
कहें न आईना उस को जो पारा-पारा नहीं



Khvab Ka Rishta Haqiqat Se Na Joḍa Jaa.e
Aina Hai Ise Patthar Se Na Toḍa Jaa.e

ख़्वाब का रिश्ता हक़ीक़त से न जोड़ा जाए
आईना है इसे पत्थर से न तोड़ा जाए



Koi Bhula Hua Chehra Nazar Aa.e Shayad
Aina Ġhaur Se Tu Ne Kabhi Dekha Hi Nahin

कोई भूला हुआ चेहरा नज़र आए शायद
आईना ग़ौर से तू ने कभी देखा ही नहीं



Koi Munh Pher Leta Hai To ‘qasir’ Ab Shikayat Kya
Tujhe Kis Ne Kaha Tha Aaine Ko Toḍ Kar Le Ja

कोई मुँह फेर लेता है तो ‘क़ासिर’ अब शिकायत क्या
तुझे किस ने कहा था आइने को तोड़ कर ले जा



Tumhare Sang-e-taġhaful Ka Kyuun Karen Shikva
Is Aaine Ka Muqaddar Hi Tutna Hoga

तुम्हारे संग-ए-तग़ाफ़ुल का क्यूँ करें शिकवा
इस आइने का मुक़द्दर ही टूटना होगा



Un Ki Yaktai Ka Da.ava Mit Gaya
Aaine Ne Dusra Paida Kiya

उन की यकताई का दावा मिट गया
आइने ने दूसरा पैदा किया



Zara Visal Ke Ba.ad Aaina To Dekh Ai Dost
Tire Jamal Ki Doshizgi Nikhar Aai

ज़रा विसाल के बाद आइना तो देख ऐ दोस्त
तिरे जमाल की दोशीज़गी निखर आई



Bhule-bisre Hue Ġham Phir Ubhar Aate Hain Kai
Aina Dekhen To Chehre Nazar Aate Hain Kai

भूले-बिसरे हुए ग़म फिर उभर आते हैं कई
आईना देखें तो चेहरे नज़र आते हैं कई



Dekh Aina Jo Kahta Hai Ki Allah-re Main
Us Ka Main Dekhne Vaala Huun ‘baqa’ Vaah-re Main

देख आईना जो कहता है कि अल्लाह-रे मैं
उस का मैं देखने वाला हूँ ‘बक़ा’ वाह-रे मैं



Dekhiyega Sambhal Kar Aina
Samna Aaj Hai Muqabil Ka

देखिएगा सँभल कर आईना
सामना आज है मुक़ाबिल का



Dekhna Achchha Nahin Zaanu Pe Rakh Kar Aaina
Donon Nazuk Hain Na Rakhiyo Aaine Par Aaina

देखना अच्छा नहीं ज़ानू पे रख कर आइना
दोनों नाज़ुक हैं न रखियो आईने पर आइना



Dil Par Chot Paḍi Hai Tab To Aah Labon Tak Aai Hai
Yuun Hi Chhan Se Bol Uthna To Shishe Ka Dastur Nahin

दिल पर चोट पड़ी है तब तो आह लबों तक आई है
यूँ ही छन से बोल उठना तो शीशे का दस्तूर नहीं



Dusron Par Agar Tabsira Kijiye
Samne Aaina Rakh Liya Kijiye

दूसरों पर अगर तब्सिरा कीजिए
सामने आइना रख लिया कीजिए



Hamen Ma.ashuq Ko Apna Banana Tak Nahin Aata
Banane Vaale Aina Bana Lete Hain Patthar Se

हमें माशूक़ को अपना बनाना तक नहीं आता
बनाने वाले आईना बना लेते हैं पत्थर से



Main Tire Vaste Aina Tha
Apni Surat Ko Taras Ab Kya Hai

मैं तिरे वास्ते आईना था
अपनी सूरत को तरस अब क्या है



Main To ‘munir’ Aine Men Khud Ko Tak Kar Hairan Hua
Ye Chehra Kuchh Aur Tarah Tha Pahle Kisi Zamane Men

मैं तो ‘मुनीर’ आईने में ख़ुद को तक कर हैरान हुआ
ये चेहरा कुछ और तरह था पहले किसी ज़माने में



Miri Jagah Koi Aina Rakh Liya Hota
Na Jaane Tere Tamashe Men Mera Kaam Hai Kya

मिरी जगह कोई आईना रख लिया होता
न जाने तेरे तमाशे में मेरा काम है क्या



Muddaten Guzrin Mulaqat Hui Thi Tum Se
Phir Koi Aur Na Aaya Nazar Aine Men

मुद्दतें गुज़रीं मुलाक़ात हुई थी तुम से
फिर कोई और न आया नज़र आईने में



Mushkil Bahut Paḍegi Barabar Ki Chot Hai
Aina Dekhiyega Zara Dekh-bhaal Ke

मुश्किल बहुत पड़ेगी बराबर की चोट है
आईना देखिएगा ज़रा देख-भाल के



Na Dekhna Kabhi Aina Bhuul Kar Dekho
Tumhare Husn Ka Paida Javab Kar Dega

न देखना कभी आईना भूल कर देखो
तुम्हारे हुस्न का पैदा जवाब कर देगा



Pyaar Apne Pe Jo Aata Hai To Kya Karte Hain
Aina Dekh Ke Munh Chuum Liya Karte Hain

प्यार अपने पे जो आता है तो क्या करते हैं
आईना देख के मुँह चूम लिया करते हैं



Sitar-e-khvab Se Bhi Baḍh Kar Ye Kaun Be-mehr Hai Ki Jis Ne
Charaġh Aur Aaine Ko Apne Vajud Ka Raaz-daan Kiya Hai

सितारा-ए-ख़्वाब से भी बढ़ कर ये कौन बे-मेहर है कि जिस ने
चराग़ और आइने को अपने वजूद का राज़-दाँ किया है



Vahdat Men Teri Harf Dui Ka Na Aa Sake
Aina Kya Majal Tujhe Munh Dikha Sake

वहदत में तेरी हर्फ़ दुई का न आ सके
आईना क्या मजाल तुझे मुँह दिखा सके



Ye Sub.h Ki Safediyan Ye Dopahar Ki Zardiyan
Ab Aine Men Dekhta Huun Main Kahan Chala Gaya

ये सुब्ह की सफ़ेदियाँ ये दोपहर की ज़र्दियाँ
अब आईने में देखता हूँ मैं कहाँ चला गया

Also Read: Ghalib Shayari