Ho Na Ho Ye Koi Sach

हो न हो ये कोई सच बोलने वाला है क़तील,
जिसके हाथों में कलम, पाँव में जंजीरें हैं।

Ho Na Ho Ye Koi Sach Bolane Vaala Hai Qatil,
Jisake Haathon Mein Kalam, Paanv Mein Janjiren Hain.

Is Shahar Ke Logon Mein

इस शहर के लोगों में वफ़ा ढूँढ रहे हो,
तुम जहर की शीशी में दवा ढूँढ रहे हो।

Is Shahar Ke Logon Mein Wafa Dhoondh Rahe Ho,
Tum Jahar Ki Shishi Mein Dava Dhoondh Rahe Ho.

Kis Kis Se Vaabasta Karen

किस किस से वाबस्ता करें हम अपनी उमीदें,
इस दौर में हर शख्स वफ़ा भूल गया है।

Kis Kis Se Vaabasta Karen Ham Apani Ummiden,
Is Daur Mein Har Shakhs Vafa Bhool Gaya Hai.

Tumhaara Dabadaba Logon

तुम्हारा दबदबा लोगों यहाँ सिर्फ ज़िंदगी तक है,
किसी की कब्र के अंदर ज़मींदारी नहीं चलती।

Tumhaara Dabadaba Logon Yahaan Sirf Zindagi Tak Hai,
Kisi Ki Kabr Ke Andar Zamindaari Nahin Chalati.

Mai Khud Bhi Ehatiyaatan

मै खुद भी एहतियातन, उस गली से कम गुजरता हूँ,
कोई मासूम क्यों कर, मेरे लिए बदनाम हो जाये।

Mai Khud Bhi Ehatiyaatan, Us Gali Se Kam Gujarata Hoon,
Koi Maasoom Kyon Kar, Mere Liye Badanaam Ho Jaaye.

Sirf Lafzon Ko Na Suno

सिर्फ लफ़्ज़ों को न सुनो कभी आँखें भी पढ़ो,
कुछ सवाल बड़े खुद्दार हुआ करते हैं।

Sirf Lafzon Ko Na Suno Kabhi Aankhen Bhi Padho,
Kuchh Savaal Bade Khuddaar Hua Karate Hain.

Waqt Ke Saath Badal Jaate

वक़्त के साथ बदल जाते हैं चेहरे सारे,
आज अपने हैं ये लोग कल पराये होंगे।

Waqt Ke Saath Badal Jaate Hain Chehare Saare,
Aaj Apane Hain Ye Log Kal Paraaye Honge.

Apani Tasvir Banaoge

अपनी तस्वीर बनाओगे तो अहसास होगा,
कितना दुश्वार है खुद को कोई चेहरा देना।

Apani Tasvir Banaoge To Ehasaas Hoga,
Kitana Dushvaar Hai Khud Ko Koi Chehara Dena.

Shaayaron Se Taalluk Rakho

शायरों से ताल्लुक रखो, तबियत ठीक रहेगी,
ये वो हक़ीम हैं, जो अल्फ़ाज़ों से इलाज करते हैं।

Shaayaron Se Taalluk Rakho, Tabiyat Thik Rahegi,
Ye Vo Haqim Hain, Jo Alfaazon Se Ilaaj Karate Hain.

Aandhiyaan Hasarat Se Apana

आँधियाँ हसरत से अपना सर पटकती रहीं,
बच गए वो पेड़ जिनमें हुनर लचकने का था।

Aandhiyaan Hasarat Se Apana Sar Patakati Rahi,
Bach Gae Vo Ped Jinamen Hunar Lachakane Ka Tha.